GST- Goods & Service tax

*GST पर पीएम मोदी का पूरा भाषण*

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कुछ ऐसे पल होते हैं, जिसमें हम नई ऊंचाई को छूने का प्रयास करते हैं. आज मध्यरात्रि के समय हम लोग देश का भविष्य तय करने जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि GST सिर्फ अर्थव्यवस्था के लिए नहीं है, कुछ देर बाद ही नई व्यवस्था की शुरुआत होगी.

पीएम ने कहा कि यह रास्ता किसी एक दल की सिद्धि नहीं है, ये रास्ता किसी एक सरकार की सिद्धि नहीं है ये जीएसटी सभी लोगों के प्रयास का फल है. उन्होंने कहा कि ये वो सेंट्रल हॉल है जहां पर कई ऐतिहासिक काम हुए हैं. पीएम ने कहा कि 9 दिसबंर 1946 को संविधान सभा की पहली बैठक यहां पर ही हुई थी. उस समय पंडित नेहरू, अबुल कलाम आजाद, वल्लभ भाई पटेल समेत कई लोग यहां पर बैठे थे.

पीएम ने कहा कि GST के रुप में हम एक नए भारत की शुरुआत कर रहे हैं, इसके लिए सेंट्रल हॉल से अच्छी जगह कोई नहीं है. मोदी बोले कि गीता में भी 18 अध्याय थे, और जीएसटी काउंसिल की भी 18 बैठके हुईं. पीएम ने कहा कि अब पूरे देश में एक ही टैक्स लगेगा, लगभग 500 टैक्स खत्म हो रहे हैं. अब से पहले दिल्ली में कुछ और दाम रहता था, तो नोएडा में कुछ और पर अब ऐसा नहीं होगा.

26 नवंबर 1949 देश ने संविधान को स्वीकार किया. यह वही जगह है. और आज जीएसटी के रूप से बढ़कर कोई और स्थान नहीं हो सकता, इस काम के लिए. संविधान का मंथन 2 साल 11 महीने 17 दिन चला था. हिंदुस्तान के कोने कोने से विद्वान उस बहस में हिस्सा लेते थे. वाद-विवाद होते थे, राजी नाराजी होती थी.

पीएम ने कहा कि सब मिलकर बहस करते थे रास्ते खोजते थे. इस पार उस पार नहीं हो पाए तो बीच का रास्ता खोजकर चलने का प्रयास करते थे.जीएसटी टीम इंडिया का क्या परिणाम हो सकता है, यह उसके सामर्थ का परिचायक है. जीएसटी काउंसिल केंद्र और राज्य ने मिलकर, जिसने गरीबों के लिए पहले उपलब्ध सेवाओं को बरकरार रखा है. दल कोई भी हो, सरकार कोई भी गरीबों के प्रति संवेदनशीलता सबने रखी है.

पीएम मोदी ने कहा कि जीएसटी लागू होने से ईमानदार लोगों को कोई नुकसान नहीं होगा, उन्होंने कहा कि GST से कालाधन, भ्रष्टाचार खत्म होगा. ये व्यवस्था देश के गरीबों के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद होगी |

*GST पर वित्त मंत्री अरुण जेटली का भाषण*

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि जीएसटी लागू होने से नई यात्रा की शुरुआत हो रही है. इस यात्रा में कई लोगों का सहयोग रहा है. हमारा लक्ष्य एक देश, एक टैक्स का है. इस सिस्टम को पास करने में केंद्र और राज्य सरकार का सहयोग रहा है, राष्ट्र के हित में पूरा देश एक साथ आया है. सभी राज्यों ने एक साथ आकर देश के संघीय ढांचे का उदाहरण है.

उन्होंने कहा कि आज से हमारा लक्ष्य सभी को साथ चलने का है. राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी इस यात्रा के अहम गवाह हैं, NDA 1 ने 2003 में ऐतिहासिक रिपोर्ट दी थी, जिसके बाद 2006 के बजट में यूपीए सरकार ने घोषणा की थी कि 2010 में इसे लागू किया जाएगा. उस दौरान वित्तमंत्री ने इसे सबके सामने रखा था, और संविधान में संशोधन हुआ था.

जेटली ने कहा कि स्टैंडिंग कमेटी के ही निर्णय का असर था कि केंद्र और राज्य एक साथ आ पाए. जिससे जीएसटी काउंसिल में सभी को मदद मिली. जेटली ने कहा कि GST के तहत सभी को लाना चाहता हैं. सभी की कोशिश रही कि हर पार्टी का इसमें योगदान हो. प्रो. दासगुप्ता, सुशील मोदी, के.एन. मणि, डॉ. अमित मित्रा ने राज्यों में आम राय बनाने में अच्छी कोशिश की. यह प्रक्रिया 15 साल पहले ही शुरू हुई थी.

अरुण जेटली बोले कि संसद ने सभी सुझावों को सर्वसम्मति से पास किया, जीएसटी काउंसिल ने 18 बार बैठक की थी. जिसमें हर निर्णय सर्वसम्मति से हुआ है, कभी भी वोट डलवाने की जरुरत नहीं पड़ी. अभी तक 24 निर्णय हुए हैं, 1211 सामानों पर टैक्स तय हुआ है. हमारा लक्ष्य था कि आम आदमी पर ज्यादा बोझ ना पड़े और राज्य-केंद्र सरकार के राजस्व पर भी कोई प्रभाव ना पड़े. उन्होंने कहा कि आज के समय में 17 टैक्स और 23 सेस को समाप्त कर अब सिर्फ एक टैक्स जीएसटी लागू कर दिया गया है. अब सिर्फ एक ही रिटर्न दायर करना होगा. इस निर्णय को लागू करने में सभी का योगदान है, मैं सभी का धन्यवाद करता हूं. जीएसटी लागू होने से महंगाई कम होगी, टैक्स का झंझट कम होगा |

*GST* *1जुलाई से लागू*

0% GST Rates Items –*
गेहूं, चावल, दूसरे अनाज, आटा, मैदा, बेसन, चूड़ा, मूड़ी (मुरमुरे), खोई, ब्रेड, गुड़, दूध, दही, लस्सी, खुला पनीर, अंडे, मीट-मछली, शहद, ताजी फल-सब्जियां, प्रसाद, नमक, सेंधा/काला नमक, कुमकुम, बिंदी, सिंदूर, चूड़ियां, पान के पत्ते, गर्भनिरोधक, स्टांप पेपर, कोर्ट के कागजात, डाक विभाग के पोस्टकार्ड/लिफाफे, किताबें, स्लेट-पेंसिल, चॉक, समाचार पत्र-पत्रिकाएं, मैप, एटलस, ग्लोब, हैंडलूम, मिट्टी के बर्तन, खेती में इस्तेमाल होने वाले औजार, बीज, बिना ब्रांड के ऑर्गेनिक खाद, सभी तरह के गर्भनिरोधक, ब्लड, सुनने की मशीन।

*5% GST Rates Items –*
ब्रांडेड अनाज, ब्रांडेड आटा, ब्रांडेड शहद, चीनी, चाय, कॉफी, मिठाइयां, *खाद्य तेल,* स्किम्ड मिल्क पाउडर, बच्चों के मिल्क फूड, रस्क, पिज्जा ब्रेड, टोस्ट ब्रेड, पेस्ट्री मिक्स, प्रोसेस्ड/फ्रोजन फल-सब्जियां, पैकिंग वाला पनीर, ड्राई फिश, न्यूजप्रिंट, ब्रोशर, लीफलेट, राशन का केरोसिन, रसोई गैस, झाडू, क्रीम, *मसाले,* जूस, साबूदाना, जड़ी-बूटी, लौंग, दालचीनी, जायफल, जीवन रक्षक दवाएं, स्टेंट, ब्लड वैक्सीन, हेपेटाइटिस डायग्नोसिस किट, ड्रग फॉर्मूलेशन, क्रच, व्हीलचेयर, ट्रायसाइकिल, लाइफबोट, हैंडपंप और उसके पार्ट्स, सोलर वाटर हीटर, रिन्यूएबल एनर्जी डिवाइस, ईंट, मिट्टी के टाइल्स, साइकिल-रिक्शा के टायर, कोयला, लिग्नाइट, कोक, कोल गैस, सभी ओर (अयस्क) और कंसेंट्रेट, राशन का केरोसिन, रसोई गैस।

*12% GST Rates Items –*
नमकीन, भुजिया, *बटर ऑयल, घी*, मोबाइल फोन, ड्राई फ्रूट, फ्रूट और वेजिटेबल जूस, सोया मिल्क जूस और दूध युक्त ड्रिंक्स, प्रोसेस्ड/फ्रोजन मीट-मछली, अगरबत्ती, कैंडल, आयुर्वेदिक-यूनानी-सिद्धा-होम्यो दवाएं, गॉज, बैंडेज, प्लास्टर, ऑर्थोपेडिक उपकरण, टूथ पाउडर, सिलाई मशीन और इसकी सुई, बायो गैस, एक्सरसाइज बुक, क्राफ्ट पेपर, पेपर बॉक्स, बच्चों की ड्रॉइंग और कलर बुक, प्रिंटेड कार्ड, चश्मे का लेंस, पेंसिल शार्पनर, छुरी, कॉयर मैट्रेस, एलईडी लाइट, किचन और टॉयलेट के सेरेमिक आइटम, स्टील, तांबे और एल्यूमीनियम के बर्तन, इलेक्ट्रिक वाहन, साइकिल और पार्ट्स, खेल के सामान, खिलौने वाली साइकिल, कार और स्कूटर, आर्ट वर्क, मार्बल/ग्रेनाइट ब्लॉक, छाता, वाकिंग स्टिक, फ्लाईएश की ईंटें, कंघी, पेंसिल, क्रेयॉन।

*18% GST Rates Items –*
हेयर ऑयल, साबुन, टूथपेस्ट, कॉर्न फ्लेक्स, पेस्ट्री, केक, जैम-जेली, आइसक्रीम, इंस्टैंट फूड, शुगर कन्फेक्शनरी, फूड मिक्स, सॉफ्ट ड्रिंक्स कंसेंट्रेट, डायबेटिक फूड, निकोटिन गम, मिनरल वॉटर, हेयर ऑयल, साबुन, टूथपेस्ट, कॉयर मैट्रेस, कॉटन पिलो, रजिस्टर, अकाउंट बुक, नोटबुक, इरेजर, फाउंटेन पेन, नैपकिन, टिश्यू पेपर, टॉयलेट पेपर, कैमरा, स्पीकर, प्लास्टिक प्रोडक्ट, हेलमेट, कैन, पाइप, शीट, कीटनाशक, रिफ्रैक्टरी सीमेंट, बायोडीजल, प्लास्टिक के ट्यूब, पाइप और घरेलू सामान, सेरेमिक-पोर्सिलेन-चाइना से बनी घरेलू चीजें, कांच की बोतल-जार-बर्तन, स्टील के ट-बार-एंगल-ट्यूब-पाइप-नट-बोल्ट, एलपीजी स्टोव, इलेक्ट्रिक मोटर और जेनरेटर, ऑप्टिकल फाइबर, चश्मे का फ्रेम, गॉगल्स, विकलांगों की कार।

*28% GST Rates Items –*
कस्टर्ड पाउडर, इंस्टैंट कॉफी, चॉकलेट, परफ्यूम, शैंपू, ब्यूटी या मेकअप के सामान, डियोड्रेंट, हेयर डाइ/क्रीम, पाउडर, स्किन केयर प्रोडक्ट, सनस्क्रीन लोशन, मैनिक्योर/पैडीक्योर प्रोडक्ट, शेविंग क्रीम, रेजर, आफ्टरशेव, लिक्विड सोप, डिटरजेंट, एल्युमीनियम फ्वायल, टीवी, फ्रिज, वाशिंग मशीन, वैक्यूम क्लीनर, डिश वाशर, इलेक्ट्रिक हीटर, इलेक्ट्रिक हॉट प्लेट, प्रिंटर, फोटो कॉपी और फैक्स मशीन, लेदर प्रोडक्ट, विग, घड़ियां, वीडियो गेम कंसोल, सीमेंट, पेंट-वार्निश, पुट्टी, प्लाई बोर्ड, मार्बल/ग्रेनाइट (ब्लॉक नहीं), प्लास्टर, माइका, स्टील पाइप, टाइल्स और सेरामिक्स प्रोडक्ट, प्लास्टिक की फ्लोर कवरिंग और बाथ फिटिंग्स, कार-बस-ट्रक के ट्यूब-टायर, लैंप, लाइट फिटिंग्स, एल्युमिनियम के डोर-विंडो फ्रेम, इनसुलेटेड वायर-केबल।

*GST के Rules*

CGST= Central Goods and Service tax
SGST= State Goods and Service tax
IGST= Import Goods and Service tax

*अ*- 20 लाख ₹ तक के टर्नओवर वालों को GST भरने की आवश्यकता नहीं है वे आराम से अपना व्यवसाय बिना किसी चिंता के कर सकते हैं।

*ब*- यह कि जिनका टर्नओवर 75 लाख ₹ तक है । उन्हें केवल 1% GST भरना है ।
ना तो उन्हें महीने के चार रिटर्न भरना है और ना ही साल के 37 रिटर्न भरना है। उन्हें केवल तिमाही एवं सालाना रिटर्न ही भरना होगा। लेकिन इसके लिए आपको कंपोजीशन स्कीम लेना होगी।

*स*- देश के लगभग 65 से 68% व्यापारी इन दो बिंदुओं के अंतर्गत ही आते हैं यदि GST को ठीक प्रकार से समझा जाए तो छोटे और मझोले व्यापारियों के लिए इससे बढ़िया और कुछ हो ही नहीं सकता।

GST में इन चीजों से आजादी मिलेगी ..

1- *16 तरह के टैक्स से आजादी :*
केंद्र के एक्साइज,
सर्विस टैक्स,
एसएडी,
सीवीडी व राज्यों के वैट,
सीएसटी,
एंट्री और लग्झरी समेत 16 तरह के टैक्स खत्म होंगे।

2 – *1150 तरह की चुंगी से आजादी :*
देश के सभी राज्यों में अभी कुल मिलाकर 1 हजार 150 तरह की चुंगिया है, ये सब खत्म होंगी और पूरा देश एक बाजार बन जाएगा।

3 – *टैक्स पर टैक्स से आजादी :*
अभी उत्पाद की लागत के साथ-साथ केंद्र के टैक्स पर भी राज्य का टैक्स लगता है, जीएसटी में टैक्स पर टैक्स नहीं लगेगा।

4 – *टैक्स ऑफिस जाने से आजादी :*
सेल्स रिटर्न से लेकर क्रेडिट,
रिफंड क्लेम तक सब कुछ अब ऑनलाइन होगा। रिफंड भी अब ऑनलाइन ही आएगा। तो अब से टैक्स ऑफिस का चक्कर भी खत्म।

5 – *अलग-अलग कीमतों से आजादी :*
राज्यों के वैट,
एंट्री टैक्स अलग-अलग होने से किसी भी उत्पाद की कीमत हर राज्य में अलग-अलग होती है, जीएसटी में सभी उत्पाद की एक ही कीमत होगी । चाहे वो किसी भी राज्य में मिले।

अतः सभी व्यापारी भाइयों से निवेदन है कि बिना सोचे समझे जीएसटी के बारे में अफवाहें सुनकर परेशान होना बंद करें और तो और कई लोगो द्वारा यह भी अफवाह फैलाई जा रही है कि GST में सीधे गिरफ़्तारी के प्रावधान है लेकिन यह केवल कमिश्नर रैंक वाले अफसर को ही है और वह भी केवल उन्हीं को जिनका की टर्नओवर 100 करोड़ ₹ या उससे अधिक है और ऐसे केवल कुछ ही व्यापारी पूरे देश में है ।

अतः छोटे व्यापारियों के लिए तो GST एक वरदान सामान है । आवश्यकता है तो बस इसे समझने की ।

 

*ICAI के स्थापना दिवस के कार्यक्रम में पीएम ने कहा:-*

*GST पर दिल्ली के इंदिरा गांधी स्टेडियम से पीएम ने किया सम्बोधन*

30 तारीख के 48 घण्टे पहले देश की 1 लाख फर्जी कंपनियों को बंद किया गया

नोटबंदी के बाद देश की 3 लाख कंपनिया संदेह के दायरे में,कानून तोड़ने वाली कम्पनियो के खिलाफ कड़ी कार्यवाही होगी-

जिन्होंने गरीबो को लूटा उन्हें गरीबों को वापस करना होगा, स्विस बैंक में भारतीय जमा पैसे में 2013 के बाद 42 % की भारी गिरावट आई-

कुछ लोग प्रगति रोकने का काम करते है, कुछ लोगों की चोरी से देश का विकास रुकता है-

देश के मात्र 32 लाख लोग ही अपनी आय 10 लाख से ज्यादा बताते है जबकि हर साल करोडो लोग लग्जरी गाड़ियाँ खरीदते हैं-

CA ठान ले तो कोई टैक्स चोरी की हिम्मत नही कर सकता, चोर चोरी तभी करता है जब उसे मालूम होता है कि उसे कोई बचाने वाला है-

*किसी न किसी को देश के लिए जीना होगा- पीएम*💥

धन्यवाद ।

एक देश
एक कर = GST

#saurabhyadavbjp

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s